Published On: गुरु, मई 17th, 2018

कर्नाटक का नाटक : 4 राज्यों में विपक्ष की मांग, सबसे बड़ा दल होने के नाते राज्यपाल हमें दें मौका

Share This
Tags

670--25-25-1-_1_1526नई दिल्ली।कर्नाटक में सबसे बड़ी पार्टी भाजपा (104 सीट) को सरकार बनाने का न्योता दिए जाने पर गुरुवार को सियासत तेज हो गई। अब कांग्रेस ने गोवा, मणिपुर, मेघालय और राजद ने बिहार में सरकार बनाने का मौका दिए जाने की मांग की। विपक्ष के नेताओं ने शुक्रवार को राज्यपालों से मुलाकात के लिए वक्त मांगा है। दोनों ही पार्टियों के पास इन राज्यों में सबसे ज्यादा सीटें हैं, लेकिन सरकारें भाजपा-एनडीए गठबंधन की हैं। कांग्रेस और राजद ने कहा कि कर्नाटक की तर्ज पर राज्यपाल उन्हें भी सरकार बनाने के लिए बुलाएं। राजद नेता तेजस्वी यादव ने बिहार सरकार को बर्खास्त करने की मांग की है। इसके लिए राजद शुक्रवार को धरना देगी।

मांग: कर्नाटक की तर्ज पर सरकार बनाने का मौका मिले

गोवा:कांग्रेस नेता यतीश नाइक ने कहा, ”2017 में कांग्रेस 17 सीट जीतकर विधानसभा में सबसे बड़ी पार्टी बनी। पर राज्यपाल ने 13 सीटों वाली भाजपा को सरकार बनाने के लिए बुलाया। अब कर्नाटक में राज्यपाल ने सबसे बड़ी पार्टी (भाजपा) को सरकार बनाने का न्योता दिया। इसीलिए मांग करते हैं कि राज्यपाल हमें सरकार बनाने के लिए बुलाएं। उधर, कांग्रेस सूत्रों ने कहा कि पार्टी के गोवा प्रभारी चेल्ला कुमार शुक्रवार को पणजी में विधायकों के साथ राज्यपाल से मुलाकात करेंगे। इस दौरान उनकी मांग होगी कि राज्य में सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका दें। जरूरत पड़ी तो राजभवन में विधायकों की परेड भी कराएंगे।

बिहार:राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा, ”हम कर्नाटक में लोकतंत्र की हत्या के विरोध में शुक्रवार को धरना देंगे। बिहार के राज्यपाल से मांग करते हैं कि मौजूदा सरकार को बर्खास्त करें। कर्नाटक की तरह सबसे बड़ी पार्टी (राजद) को सरकार बनाने के लिए बुलाएं। राज्यपास से मुलाकात का वक्त मिल गया है। बिहार में चुनाव के बाद जो मौजूदा गठबंधन बना, क्या वो जनादेश का अपमान नहीं है। अब कर्नाटक में गठबंधन को लोकतंत्र की हत्या बता रहे हैं। बिहार में जो हुआ क्या वो गलत नहीं है।

– मणिपुर और मेघालय:दोनों राज्यों के पूर्व मुख्यमंत्री शुक्रवार को राज्यपालों से मुलाकात करेंगे। यहां कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी है।

1. गोवा की मौजूदा विधानसभा

कुल सीट: 40

बहुमत: 21

मुख्यमंत्री: मनोहर पर्रिकर

पार्टी सीट
कांग्रेस 17
भाजपा 13
निर्दलीय 03
अन्य 07

भाजपा ने गोवा में कैसे नंबर जुटाए?-2017 के चुनाव में किसी पार्टी को बहुमत नहीं मिला। भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार मनोहर पर्रिकर ने 21 विधायकों के समर्थन के साथ सरकार बनाने का दावा किया। भाजपा ने महाराष्‍ट्रवादी गोमांतक पार्टी और गोवा फॉरवर्ड पार्टी के तीन-तीन और 2 निर्दलीय विधायकों के सपोर्ट से बहुमत हासिल किया। पर्रिकर की शपथ के बाद एक और निर्दलीय विधायक ने समर्थन दे दिया था। इस लिहाज से उनके पास 22 विधायक हैं।

2. बिहार की मौजूदा विधानसभा

कुल सीट: 243

बहुमत: 122

मुख्यमंत्री- नीतीश कुमार

पार्टी सीट
राजद 80
जदयू 70
भाजपा 53
कांग्रेस 27
निर्दलीय 04
अन्य 08

भाजपा-जदयू ने कैसे जरूरी नंबर जुटाए?- पिछले चुनाव में महागठबंधन (राजद-जदयू और कांग्रेस) को 178 सीटें मिलीं। 80 सीटों के साथ राजद सबसे बड़ी पार्टी रही। वहीं, जेडीयू को 71 और कांग्रेस को 27 सीट मिलीं थी। तब नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बने थे। 26 जुलाई, 2017 को तेजस्वी के इस्तीफे से राजद के इनकार पर नीतीश कुमार ने इस्तीफा दे दिया। फिर जदयू ने भाजपा (53 सीट) के साथ मिलकर सरकार बनाई।

3. मणिपुर की मौजूदा विधानसभा

कुल सीट: 60

बहुमत: 31

मुख्यमंत्री- एन. बीरेन सिंह

पार्टी सीट
कांग्रेस 28
भाजपा 21
एनपीएफ 04
एनपीईपी 04
अन्य 03

भाजपा ने कैसे जुटाए जरूरी नंबर?-पिछले साल मणिपुर के चुनाव में किसी दल को बहुमत नहीं मिला। विधानसभा की कुल 60 सीटों में से कांग्रेस को 28, भाजपा को 21 सीटें मिलीं। राज्यपाल नजमा हेपतुल्ला ने भाजपा को सरकार बनाने का मौका दिया। भाजपा को बहुमत साबित करने के लिए 10 विधायकों के समर्थन की जरूरत थी। उसे 4 नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ), 4 नेशनल पीपुल्स पार्टी, 1 लोक जनशक्ति पार्टी, 1 टीएमसी और 1 कांग्रेस विधायक ने सपोर्ट किया। इस तरह, उसके पास 21+4+4+1+1+1= 32 विधायक हो गए।

4. मेघालय की मौजूदा विधानसभा

कुल सीट: 60

बहुमत: 31

मुख्यमंत्री: कोनराड संगमा

पार्टी सीट
कांग्रेस 20
एनपीपी 21
भाजपा 02
अन्य 17

भाजपा ने एनपीपी के साथ गठबंधन किया-बता दें कि मेघालय में भाजपा ने चुनाव के पहले किसी भी पार्टी से गठबंधन नहीं किया। वह अकेले मैदान में उतरी थी। नतीजों के बाद एनपीपी के साथ मिलकर सरकार बनाई।